स्वास्थ्य ज्ञान, Health Related Articles in Hindi,

What shouldn’t do after a plaster in fracture- in hindi


हड्डी के टूटने पर चढ़वाया जाता है प्लास्टर। टूटे अंग को स्थिर रखने में मदद करता है।प्लास्टर बंधे रहने के दौरान अंगो में करे मूवमेंट।नुकीली चीजों आदि से खुजलाने की कोशिश ना करें।

हमारे शरीर की किसी भी हड्डी के टूटने पर हम प्लास्टर चढवाते है। प्लास्टर चढ़ाने का उद्देश्य सिर्फ इतना ही होता है कि हड्डी टूटा वाला अंग कसकर बंध जाये ताकि हड्डी अपने स्थान से हटे नहीं। चोट लगने पर प्लास्टर बांधने से हड्डियां जुड़ती हों ऐसा नहीं है। टूटी हुई हड्डी अपने आप समय लेकर प्राकृतिक रूप से जुड़ती है। जरूरत सिर्फ टूटे हुए अग को स्थिर रखने की होती है। यह काम प्लास्टर करता है।  पुराने जमाने की तुलना मे अब बाजार में कई तरह के नए प्लास्टर भी आ गए है। जो देखने में स्टाइलिश भी लगते है। प्लास्टर के बंधे रहने तक आपको कउच सावधानी रखनी चाहिए वर्ना उसका काम ठीक ढ़ंग से नहीं हो पाएगा।
इसे भी पढ़ें, अदरक प्लास्टर लगाएं, शरीर के कई दर्द दूर भगाएं

शरीर के किसी भी अंग पर प्लास्टर बंधा होने पर उस हिस्से को तकिये की मदद से थोड़ा सा ऊपर उठाकर रखना चाहिए। इससे शरीर का रक्त संचालन ठीक बना रहता है।उस अंग को कितने आराम की आवश्यकता है, इसकी भी पूरी जानकारी लें। अधिक हिलाने डुलाने से हड्डी देर से जुड़ सकती है और खिसक भी सकती है।प्लास्टर बंधे रहने के दौरान हमेशा अपनी उंगलियों को घुमाते रहना चाहिए वर्ना अंग के सुन्न पड़ जाने का खतरा रहता है। प्लास्टर लगवाने के बाद डॉक्टर से जानकारी ले लें कि प्लास्टर लगे अंग को कितना हिलाना डुलाना चाहिए, कितना काम उस अंग से लेना चाहिए और कितना वजऩ उस अंग पर डालना चाहिए। प्लास्टर लगने पर कभी भी पेंसिल या किसी नुकीली वस्तु से मत खुजलाएं। इसके अन्दर लगने पर इन्फेक्शन भी हो सकता है। प्लास्टर को पानी से बचा कर रखें।अगर प्लास्टर के दौरान आपकी उँगलियों में दर्द होने लगे या वे सुन्न पड़ जायें और उनमें कालापन आ जायें तो तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह लें।बिना डॉक्टर की मदद के कभी भी खुद से प्लास्टर को न काटें, न ही छोटा करें।।समय से पहले प्लॉस्टर काट देने से हड्डी मुड़ सकती है और कच्ची भी जुड़ सकती है। मालिश, खींचतान और सिंकाई हड्डी को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। आमतौर पर प्लास्टर 3 सप्ताह से 6 सप्ताह के लिए हड्डी टूटने वाले स्थान पर लगाए जाते हैं। मल्टीपल बोन्स टूटने या एक ही हड्डी में कई जगह टूटने की स्थिति में प्लॉस्टर 2 माह से 3 माह तक भी लगाना पड़ सकता है।

 
इसे भी पढ़ें, गर्भावस्था के पहले ट्राइमेस्टर में खानपान के साथ जरूरी जांच अवश्‍य करायें

विशेषज्ञ से इलाज करवाते समय पूरी जानकारी लें कि क्या क्या दवा, विटामिन्स आदि लेने हैं और प्लॉस्टर कब तक रखना है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s