Real stories of great people

Karuna..The legend batukeshwar dutt

सरदार भगत सिंह के साथ बम फेंक करअंग्रेजी शासन

की नींव हिला देने वाले महान

क्रांतिकारी बटुकेश्वर दत्त बचपन से

ही बेहद संवेदनशील थे। जब

भी वह किसी गरीब

को असहाय हालत में देखते, तो उनका हृदय करुणा से

भर उठता। जरूरतमंद की सहायता के लिए वे

हमेशा तैयार रहते थे।

एक दिन जब वे स्कूल जा रहे थे तो रास्ते में उन्होंने

एक भिखारी को बहुत दयनीय

हालत में पड़े देखा। वह बीमार था और

भूख-प्यास से तड़प रहा था। बालक बटुकेश्वर ने फौरन

उसे पानी पिलाया और फिर एक

राहगीर की मदद से उसे उठाकर

पास के एक खाली मकान में ले गए। उस दिन से

वह उसकी देखभाल में जुट गए। रोज स्कूल

जाते समय वह उसे अपना खाना और जेबखर्च के लिए

मिले पैसे दे जाते। भिखारी तेजी से

ठीक होने लगा। वह इस बालक

को आशार्वाद देते नहीं थकता था। वह

सोचता, आज इस दुनिया में भाई-भाई की मदद

नहीं करता और एक यह छोटा सा बालक

मेरी सेवा में पूरे मन से जुटा रहता है।

एक दिन स्कूल जाते वक्त बटुकेश्वर ने

पाया कि भिखारी अपनी जगह पर

नहीं है। पड़ोसियों से

पूछा तो पता चला कि बीती रात

अचानक

भिखारी की तबीयत

बेहद खराब हो गई और उसकी मृत्यु

हो गई। सुबह पड़ोसियों ने उसका दाह संस्कार कर

दिया था। यह सुनते ही बटुकेश्वर के

हाथ से स्कूल बैग छूट गया। उन्होंने

भीगी आंखों से आसमान

की ओर देखा और फिर फूट-फूट कर रोने लगे।

लोगों ने उन्हें चुप कराने की बहुत कोशिश

की पर वह घंटों वहीं बैठकर

रोते रहे। लोग छोटे से बालक का एक भिखारी के

लिए ऐसा प्रेम देखकर दंग रह गए।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s